Dosti Shayari Sort: All | Images | Text

अगर दोस्त ना होते हो दोस्ती का फ़र्ज़ कौन अदा करेगा, हम ना होते तो आप को कौन याद करेगा, खुदा आपको सलामत रखे हमेशा, वरना हमारी सलामती की दुआ कौन करेगा.
यकीन पे यकीन दिलाते हैं दोस्त, राह चलते को बेवकूफ़ बनाते हैं दोस्त, शरबत बोल के दारू पिलाते हैं दोस्त, पर कुछ भी कहे साले बहुत याद आते हैं दोस्त.
आपकी दोस्ती को एहसान मानते है निभाना अपना ईमान मानते है लेकिन हम वो नही जो दोस्ती मे अपनी जान दे देंगे क्यों की दोस्तो को तो हम अपनी जान मानते है.
दोस्ती किसी की रियासत नही होती, ज़िंदगी किसी की अमानत नही होती, हमारी सलतनत मैं देख कर क़दम रखना, क्योकि हमारी दोस्ती की क़ैद मैं ज़मानत नहीं होती
Dosti Ke Waade Ko Yuhi Nibhate Rahenge,
Hum Har Waqt Apko Satate-manate Rahenge.
Mar Bhi Jayein To Kya Gam Hai 
Hum Aansu Bankar Aapki Ankhon Me Aate Rahenge!
Dosti vo nahi jo "Jaan" deti hai
Dosti vo nahi jo "Muskaan" deti hai,
Asli dosti vo hai,
Jo paani me b "Aansu" pehchan leti hai!!
,
हरिवंशराय बच्चनजी की सुन्दर कविता

अगर बिकी तेरी दोस्ती
तो पहले ख़रीददार हम होंगे ...

तुझे ख़बर न होगी तेरी क़ीमत
पर तुझे पाकर सबसे अमीर हम होंगे 

दोस्त साथ हो तो रोने में भी शान है
दोस्त ना हो तो महफिल भी *श्मशान है

सारा खेल दोस्ती का है ऐ मेरे दोस्त 
वरना जनाजा और बारात एक ही समान है!
चंद लाइने पुरे ग्रुप के लीये…..

जिंदगी से हर पल एक मोज मिली,
कभी कभी नहीं हर रोज मिली.

बस एक अच्छा दोस्त मांगता था
जिन्दगी से…
पर मुझे तो पूरी विद्वानों की
फौज मिली।.
Dost teri dosti pe naaz karte hain,
Har waqt milne ki fariyaad karte hain,
Hame nahi pata, gharwale batate hain,
Ki hum neend mei bhi aapse baat karte hain
Faasle mita kar aapas mei pyar rakhna,
Dosti ka rishta yun hi bar-karaar rakhna,
Malum hai dost bahut hai aapke,
Par unke beech apni iss parchayi ka khayal rakhna